shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday shilpanchaltoday

Shilpanchal Today

Latest News in Hindi

आलू की कीमत बढ़ रही है, राजनीतिक महल में चर्चा

1 min read
बर्दवान । कुछ दिन पहले खुदरा बाजार में एक किलोग्राम ज्योति आलू की कीमत 16 रुपये से 18 रुपये थी। इस हफ्ते रेट बढ़कर 20 रुपये हो गया। शुक्रवार को देखा गया कि यह संख्या 22 रुपये तक पहुंच गई है। चुनाव के बीच आलू की बढ़ती कीमत ने सियासी संग्राम शुरू कर दिया है। विपक्ष का आरोप है कि किसानों को खेत में आलू की कीमत नहीं मिल रही है, जबकि स्टॉकिस्ट तृणमूल की मदद से खुदरा बाजार में आलू की कीमत कृत्रिम रूप से बढ़ा रहे हैं। हालांकि तृणमूल ने शिकायत स्वीकार करने से इनकार कर दिया। कृषि विभाग के सूत्रों के मुताबिक, इस सीजन की शुरुआत में बारिश के कारण लगभग 30,000 हेक्टेयर आलू की खेती को नुकसान हुआ है। उस ज़मीन के एक बड़े हिस्से पर दूसरी बार खेती करनी पड़ी। इसके चलते इस साल जिले में आलू की खेती का रकबा करीब 63 हजार हेक्टेयर कम हो गया है। किसानों का दावा है कि जिले में प्रति बीघे औसतन 90-100 बोरी (करीब 50 किलो) आलू पैदा होता है। इस साल बारिश, भूस्खलन और मौसम की मार के कारण उत्पादन में कम से कम 35% की गिरावट आई है। आलू की गुणवत्ता भी अच्छी नहीं है। मेमोरी 1 ब्लॉक के किसान प्रद्युतकुमार घोष ने कहा, “खेत की गुणवत्ता के आधार पर आलू की कीमत 450 रुपये से 700 रुपये प्रति बोरी के बीच बेची जा रही है। किसानों को नुकसान हो रहा है। इस साल आलू की खेती की लागत दोगुनी हो गई है। इसके बाद किसानों को बीमारी के लिए फफूंदनाशक दवा देने में भी अतिरिक्त लागत आई है। जमालपुर के अनंत दल, बापी दास, मेमारी के उत्पल रॉय नामक आलू किसानों ने कहा, बीमा मुआवजा नहीं मिला तो हमें नुकसान होगा। जिला कृषि विपणन विभाग के अनुसार, पिछले साल 15 मार्च तक जिले के 100 कोल्ड स्टोरेज में 6 लाख 23 हजार टन आलू का भंडारण हुआ था। इस बार 15 मार्च तक 3 लाख 66 हजार टन का भंडारण हो चुका है। पिछली बार के लगभग आधे आलू। कोल्ड स्टोरेज और आलू व्यापारियों का कहना है कि इस साल आलू देर से बढ़ रहा है। पैदावार भी कम होती है। इसीलिए फ्रीजर में आलू कम हैं। आलू व्यापारियों के एक समूह का दावा है, ”अभी आलू को फ्रीजर में रखने के लिए प्रति बैग 800 रुपये खर्च हो रहे हैं। इसके बाद आलू की कीमत 20 रुपये तक पहुंच जाएगी। इस स्थिति में आलू रखना भी जोखिम भरा होगा।” इसी बात को लेकर विरोधी हैं. कृषकसभा के जिला सचिवालय के सदस्य विनोद घोष ने कहा, “किसानों को नुकसान हो रहा है। और मध्यम वर्ग की जेबें तृणमूल के समर्थन से कुछ जमाखोरों के लिए जल रही हैं।” बीजेपी के किसान मोर्चा के नेता देवाशीष सरकार ने दावा किया, ”केंद्र सरकार गैस, पेट्रोल की कीमतें तो कम कर रही है, लेकिन आलू को जमाखोरों से नहीं बचा पा रही है!” तृणमूल के राज्य प्रवक्ताओं में से एक प्रोसेनजीत दास ने पलटवार करते हुए कहा, ”किसानों को खेत में आलू की कीमत मिल रही है. और वह मुआवज़ा पाओ जिसके तुम हक़दार हो।”
 
This image has an empty alt attribute; its file name is WhatsApp-Image-2021-08-12-at-22.47.27.jpeg
This image has an empty alt attribute; its file name is WhatsApp-Image-2021-08-12-at-22.48.17.jpeg
   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *